deepti saxena

make your own destiny

53 Posts

190 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 19606 postid : 793330

माता पिता का प्यार

Posted On: 13 Oct, 2014 Special Days में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भारत में बेटियो को घर का सम्मान माना जाता है, बेटी होना बड़े ही गर्व की बात है, बेटिया सदा ही अपने परिवार से जुडी रहती है. यह वो कड़ी है जो दो परिवारो को जोड़ती है, पर कई बार समाज मैं इसी बेटी पर कई अत्याचार भी होते है. एक बार मोदी जी ने कहा था कहा था यदि आप देश के लिए समाज के लिए कुछ करना चाहते हो, तो छोटी छोटी ज़िम्मेदारियों को छोटी छोटी बातो को नज़रअंदाज़ मत करो, यदि कोई भी व्यक्ति अपना काम अपनी ज़िम्मेदारी पूरी ईमानदारी से निभा रहा है, तो वो देश का सैनिक है?? ऐसा ही कुछ नज़ारा यूपी के मेरठ शहर में 8th अक्टूबर को देखने को मिला जब सॉफ्ट वेयर इंजीनियर खुशबू सक्सेना अपनी सगाई में बगी में बैठ मंडप तक आई, उनका कहना था की उन्हें बहुत गर्व है की उनका ज़न्म एक ऐसे परिवार में हुआ जहाँ बेटियो को घर का मान माना जाता है, उनके माता पिता ने उन्हें भी उसी प्यार सम्मान से बड़ा किया जैसे की अपने बेटे को, उनकी आखो की चमक , मन का विश्वास साफ़ बता रहा था की वो कितनी खुश है, यह विश्वास एक बेटी का है जो उसे अपने माता पिता से मिला. उनके होने वाले जीवन साथी भी टाटा मोटर्स में इंजीनियर है, जो इस बात को पूरी तरह से सपोर्ट कर रहे थे, माता पिता का प्यार बच्चो की ताकत कैसे बनता है यह नज़ारा पहली बार देखने को मिला साथ ही ख़ुशी इस बात की भी है इस समाज अब बदलाब की नीब रक्खी जा चुकी है.. छोटी छोटी बातें ही आने वाले कल को दिशा दे सकती है , सिर्फ कहने को ही नहीं सही मायनो मैं यदि बेटियो को बराबर का दर्ज़ा दिलाना है तो कुछ करना होगा ………………….

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

khushboo के द्वारा
October 14, 2014

didi bahat mast likha hai apne yeh ek new strtng hai good di.

Himanshu Saxena के द्वारा
October 14, 2016

Women have served all these centuries as looking glasses possessing the magic and delicious power of reflecting the figure of man at twice its natural size


topic of the week



latest from jagran